Wednesday, November 25, 2020
Home राष्ट्रीय Teachers day 2020: आज शिक्षक दिवस पर अपने गुरु को कैसे दे...

Teachers day 2020: आज शिक्षक दिवस पर अपने गुरु को कैसे दे बधाई

Teachers day 2020: आज शिक्षक दिवस पर अपने गुरु को कैसे दे बधाई,शिक्षक दिवस पूर्व राष्ट्रपति और देश के पहले उप राष्ट्रपति डॉ०सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस पर मनाया जाता है। शिक्षक दिवस की प्रतीक्षा शिक्षकों के साथ – साथ शिष्यों(विद्यार्थियों) को भी रहता है।

प्रत्येक वर्ष इस दिन हर विद्यालय समेत शिक्षण संस्थानों में यह दिन एक पर्व के तरह मनाया जाता है। शिष्य अपने गुरुओं को बधाई देने के साथ – साथ उन्हें कुछ उपहार भी देते है,किन्तु इस वर्ष जिस प्रकार प्रत्येक त्योहारों को Covid-19 के कारण हमें पारम्परिक तरीके से नहीं मना पा रहे है। उसी प्रकार आज हमें शिक्षक दिवस के महत्वपूर्ण दिन को अपने घर से ही शिक्षक को ऑनलाइन ही बधाई देना पड़ेगा ऐसे स्थिति में हम SMS का सहारा ले सकते है। आप अपने शिक्षकों को शिक्षक के उपर लिखी गई कविताओं और अच्छे – अच्छे स्लोगन भेज सकते है।

कौन थे, डॉ ० सर्वपल्ली राधाकृष्णन,आज ही के दिन क्यों मनाते हैं,शिक्षक दिवस

जैसा कि पहले ही हम इस लेख में व्याख्यान दे चुके हैं,की डॉ ० सर्वपल्ली राधाकृष्णन हमारे देश के पहले उप राष्ट्रपति थे और बाद में यह भारतवर्ष के सर्वोच्च पद राष्ट्रपति पड़ पर भी आसीन हुए। डॉ ० सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म इसी तारीख अर्थात 5 सितम्बर 1988 को हुआ था। वह जन्म से एक ब्राह्मण थे,उनका जन्म तमिलनाडु के तिरुत्तनी ग्राम में हुआ था। डॉ० सर्वपल्ली राधाकृष्णन की शिक्षा – दीक्षा तमिलनाडु में ही सम्पन्न हुई। यह एक महान व्यक्ति का संक्षिप्त परिचय है। यदि हम बात करें तो कई लोगो के मन में यह प्रश्न अवश्य रहता है,की क्यों डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस के दिन ही शिक्षक दिवस मनाते है? इस प्रश्न का हल हम आज आपको दे देते ‘भारत रत्न ‘ सम्मान से अलंकृत पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन पूरे समाज को या यह कहें कि संपूर्ण विश्व को एक विद्यालय के समान मानते थे।उनका कहना था, कि शिक्षा के द्वारा ही प्रणियो में उत्तम मनुष्यों के मस्तिष्क का सदुपयोग किया जा सकता है। अतः समूचे विश्व को एक ही इकाई मानकर शिक्षा का प्रबंधन करना चाहिए।  उनके महान दार्शनिक विचारों से बड़े से बड़े महान विद्वान भी प्रभावित हो जाते थे। उन्होंने अपने आजीविका को चलाने के लिए शिक्षक जैसे महान पद का चुनाव किया था। डॉ० सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने मात्र 21 वर्ष की उम्र में ही सन 1909 में ही मद्रास प्रेसीडेंसी कॉलेज में दर्शन शास्त्र के कनिष्ठ व्याख्याता के रूप में नियुक्त हुए थे। उनकी तनख्वाह उस समय केवल 37 रुपए ही थी। डॉ० सर्वपल्ली राधाकृष्णन दर्शन जैसे बड़े गंभीर विषयों को भी अत्यंत सरल और रोचकता से परिपूर्ण बना देते थे जिससे सभी प्रभावित रहते थे । इसी कारणवश डॉ० सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में लोग शिक्षक दिवस मनाते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

गोरखपुर के अभिनेता वैभव प्रताप सिंह से बातचीत

धारावाहिक परामावतार श्री कृष्ण में काम कर चुके अभिनेता वैभव प्रताप सिंह कहते है कि " जब आपके पास आपके मित्रों का साथ रहता...

बाराबंकी की प्रसिद्ध अभिनेत्री सुनैना शुक्ला से खास बातचीत

कलर्स के धारावाहिक चंद्रकांता से प्रसिद्धि पाने वाली अभिनेत्री सुनैना शुक्ला कहती है कि " आप किसी भी फील्ड में यदि सफल होना चाहते...

शाहजहांपुर की उभरती हुई अभिनेत्री कौशिकी मिश्रा से बातचीत

फिल्म बियोंड ऑफ़ क्लाउड में काम करने वाली अभिनेत्री कौशिकी मिश्रा कहती है कि " बिना किसी लक्ष्य को बनाए आप कभी भी सफलता...

लखीमपुर खीरी जिले के गोला गोकरन नाथ के मशहूर अभिनेता अजय मिश्रा से बातचीत

महाभारत धारावाहिक में संजय का किरदार निभाने वाले अजय मिश्रा कहते है कि " आप अपने परिवार की सहायता के बिना किसी भी काम...

Recent Comments

चौधरी बाल्मिकि शर्मा on विज्ञान एवं आधुनिकता की आड़ में !
अजय दाहिया on नफ़रत के उत्पादक हम
अजय दाहिया on नफ़रत के उत्पादक हम
अजय दाहिया on गाँधी जी और सत्य