Homeटीवी सीरियलगुम है किसी के प्यार में,4 सितंबर 2021 का लिखित अपडेट हिंदी...

गुम है किसी के प्यार में,4 सितंबर 2021 का लिखित अपडेट हिंदी में – Ghum Hai Kisi Ke Pyar Mein,4 September 2021 Episode Best Written Update In Hindi

गुम है किसी के प्यार में : एपिसोड की शुरुआत में विराट साईं से कहता है,कि क्या होगा अगर वह मर गया तो कम से कम उसे पता चल जाएगा कि क्या इससे उसे कोई फर्क पड़ता है। साईं उसे और कुछ भी कहने पर रोकता है। साईं का कहना है,कि उसने उससे कहा है,कि वह उसके लिए कोई नहीं है, फिर भी उसने उसकी दुर्घटना के बाद उसकी देखभाल की। विराट कहते हैं कि यह तब अलग था। साईं उसे अपनी दवा देता है और पूछता है,कि उसने पाखी से क्या कहा तो वह रोने लगी और उसे उसका हाथ पकड़ना पड़ा। विराट उसे अपने मामलों से दूर रहने के लिए कहता है। साईं कहते हैं कि वह भी उसके मामलों में अपनी नाक डालते हैं और वह आज इस नाक को कुचल देगी। वह उसकी नाक दबाती है और दवा उसके खुले मुंह में डाल देती है। विराट कहते हैं ये क्या बकवास है। साईं कहती हैं कि वह भविष्य के लिए अभ्यास कर रही थीं क्योंकि डॉक्टरों को कई जिद्दी मरीज मिलते हैं।

सम्राट,पाखी से कहता है,कि उसे विराट से बात करने के बाद स्पष्टता मिली होगी। वह कहता है,कि विराट उसका भाई है और वह जानता है,कि उसने क्या कहा होगा। उनका कहना है,कि विराट ने उनके प्रस्ताव को ठुकरा दिया होगा। वह पाखी से पूछता है,कि अगर विराट ने उसका प्रस्ताव स्वीकार कर लिया होता तो वह क्या करती और क्या वह अब भी उसके साथ एक नई शुरुआत करना चाहती। पाखी कहती है,कि वह अभी भी उसके अतीत में क्यों फंसा हुआ है। सम्राट का कहना है,कि वह जानता है,कि वह अब भी विराट से प्यार करती है। पाखी का कहना है,कि जो हुआ वह उसके हाथ में नहीं था। वह कहती है,कि वह जानती थी कि विराट कभी उसका नहीं हो सकता क्योंकि वह समय के साथ बदल गया है। वह कहती है,कि वह अच्छी तरह जानती थी कि विराट का फैसला क्या होगा। वह कहती है,कि उसके दिल में केवल एक ही आदमी हो सकता है। सम्राट कहता है,कि वह क्यों कह रही है,कि वह प्यार करती थी जब वह अभी भी उससे प्यार करती थी। पाखी का कहना है,कि हल्दी के दिन से ही विराट उन्हें खारिज कर रहे हैं। वह कहती है,कि सम्राट उसके ठीक होने का कारण हो सकता है।

गुम है किसी के प्यार में

सम्राट उसे अपने माता-पिता के घर जाने और नए सिरे से जीवन शुरू करने के लिए कहता है। पाखी का कहना है,कि उसने भी उसे अस्वीकार कर दिया। सम्राट उससे माफी मांगता है और कहता है,कि वह एक ऐसा व्यक्ति है जिसे धोखा दिया गया था इसलिए वह जो कुछ भी हो रहा है उससे सावधान है। वह कहता है,कि वह भ्रमित है। वह पाखी से कहता है,कि वह एक शिक्षित और स्मार्ट महिला है और उसके जीवन का एकमात्र लक्ष्य विवाह नहीं होना चाहिए। पाखी कहती है तो उसे स्पष्ट रूप से बताना चाहिए कि वह उसके साथ नहीं रहना चाहता। वह कहती है,कि उसके अंदर एक आवाज है जो कह रही है,कि उसे उसके साथ रहना चाहिए। सम्राट कहते हैं कि अगर आवाज फिर से बंद हो जाए तो क्या होगा। पाखी कहती है,कि ऐसा नहीं होगा क्योंकि वह सिर्फ खुश रहना चाहती है। सम्राट उलझन में है,कि वह अचानक कैसे आगे बढ़ सकती है। सम्राट का कहना है,कि वह अनाथालय नहीं छोड़ सकता। पाखी कहती है,कि वह उसके साथ जिम्मेदारी साझा कर सकती है। सम्राट का कहना है,कि उसकी थाली में अभी भी बहुत कुछ है। पाखी उसे वापस रहने और घर से बाहर न निकलने के लिए कहती है। वह रोने लगती है और कहती है,कि वह खुशी के लायक क्यों नहीं है और वह एक और सामान्य सुखी विवाहित महिला की तरह क्यों नहीं हो सकती। सम्राट उसे सांत्वना देता है और उसे पानी देता है। वह उससे कहता है,कि उसे अंततः सही साथी मिल जाएगा। वह उससे भीख माँगती है,कि वह उसे अस्वीकार न करे। वह कहती है,कि उसका जीवन अब उसके निर्णय पर निर्भर करता है। वह कहती है,कि वह इस घर में पत्रलेखा सम्राट चव्हाण के रूप में आई थी और अगर वह वहां नहीं है तो वह भी चली जाएगी।

भवानी, मानसी से कहती है,कि भगवान सब कुछ ठीक कर देंगे क्योंकि अगले दिन जन्माष्टमी है। भवानी का कहना है,कि पाखी बहुत समझदार लड़की है और वह सही फैसला करेगी। अश्विनी का कहना है,कि पाखी खुद को नहीं समझती है और उसे उम्मीद है,कि सम्राट बड़ा दिल दिखाएगा। भवानी कहती है,कि यह सब अतीत में था जैसे साईं कहते हैं कि उन्हें उसके अतीत पर उसका न्याय नहीं करना चाहिए। साईं आते हैं और कहते हैं कि उन्हें लगा कि भवानी कभी उनकी नहीं सुनती हैं लेकिन भवानी को सब कुछ शब्द से याद है।

पाखी कहती है,कि वह समझती है,कि वह क्या नहीं कह पा रहा है। वह कहती हैं कि उनके जीवन में अस्वीकृति के अलावा कुछ नहीं है। वह कहती है,कि वह अब और दिखावा नहीं कर सकती और सम्राट से अपने रिश्ते को तोड़ने के लिए अपना मंगलसूत्र उतारने के लिए कहती है।

भवानी,साईं से कहती है,कि कोई भी कभी-कभी सही बात कह सकता है। सोनाली साई से कहती है,कि वे पाखी और उसके बारे में बात कर रहे हैं। साईं मानसी से कहता है,कि वह बहुत बहादुर महिला है और उसने सम्राट को सही तरीके से पाला। वह कहती है,कि सम्राट कभी कुछ गलत नहीं कर सकता और उसे बस थोड़ा इंतजार करना पड़ता है।एपिसोड समाप्त

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

अखिलेश जैन on अहं! रंगमंचास्मि।