Homeटीवी सीरियलतेरा मेरा साथ रहे,6 अक्टूबर 2021 के एपिसोड का लिखित अपडेट हिंदी...

तेरा मेरा साथ रहे,6 अक्टूबर 2021 के एपिसोड का लिखित अपडेट हिंदी में

तेरा मेरा साथ रहे,6 अक्टूबर 2021 के एपिसोड की शुरुआत होती है, मिथिला – गोपिका को तैयार होने के लिए कहती है। वह गोपिका को गंगाजल से हाथ साफ करने के लिए कहती है। गोपिका बोतल लेती है। पंडित जी उसे जल्दी करने के लिए कहते हैं। आशी पूछती है,कि क्या वह मर जाएगी?  रमीला का कहना है,कि गोपिका के हाथ जलेंगे लेकिन वह इसे बर्दाश्त करेगी।

गोपिका आरती शुरू करती है। सक्षम ने उसका साथ दिया। गोपिका माचिस जलाती है, लेकिन वह नहीं जलती। साक्षी उससे माचिस लेती है और उसे एक और देती है। रमीला और आशी उसके हाथ जलने का इंतज़ार करते हैं। सक्षम–गोपिका के हाथ से शराब की गंध सूंघ सकता है। वह गोपिका के हाथ से माचिस लेता है। वह गोपिका से पूछता है,कि उसके हाथ में क्या है? वह पूछता है,कि वह इतनी लापरवाह कैसे हो सकती है? मिथिला उसे शांत होने के लिए कहती है। रमिला आती है और कहती है,कि गोपिका के हाथ में यह गंध क्या है? गोपिका कहती है,कि उसने अभी-अभी गंगाजल से हाथ धोए हैं।

आशी का कहना है,कि उसने रसायनों का इस्तेमाल किया। सक्षम पूछता है,कि क्या वह पढ़ नहीं सकती?  बा का कहना है,कि गोपिका वास्तव में पढ़ नहीं सकती है। बा बोतल पर कुछ भी नहीं लिखा है,कि वह कैसे पढ़ सकती है? बा वह बोतल लाती है जिस पर कोई लेबल नहीं है। रमीला और आशी सोचते हैं कि लेबल कैसे छूट गया?  मिथिला भगवान का शुक्रिया अदा करती है,कि कुछ भी बुरा नहीं हुआ और गोपिका से हाथ साफ करने के लिए कहती है। बा – गोपिका से पूछती है,कि क्या वह ठीक है?

उमा,चोरों से मोदी के घर से ताज चोरी करने को कहती है। आशी और रमीला निराश महसूस करते हैं कि उनकी योजना विफल हो गई। बा– रमीला से पूछती है,कि उसने मिथिला को गोपिका का सच क्यों नहीं बताया? रमीला का कहना है,कि गोपिका ने पहले से ही उस जीवन के बारे में सपने देखना शुरू कर दिया था, इसलिए वह अपने सपनों को नहीं तोड़ सकी। बा कहती है,कि वह समझ सकती है। रमीला पूछती है,कि क्या सभी को पता चल गया है। बा कहती है,कि वह ही जानती है। रमीला कहती है,कि वह सबको बता सकती है और वह गोपिका को वापस ले जाएगी। बा का कहना है,कि वह किसी को नहीं बताएगी और उसने केवल लेबल हटा दिया। बा उन्हें उस दिन की चेतावनी देते हैं जिस दिन मिथिला को पता चलता है।

तेरा मेरा साथ रहे

चोर, मोदी के घर जाते हैं। गोपिका सूंड लेकर कमरे में सो रही है। वे ताज चुराते हैं। गोपिका अपने पिता के बारे में सपने देखती है और डरकर जाग जाती है। चोर छिप जाते हैं और ताज बैग में गिर जाता है। गोपिका असहज महसूस करती है और बैग लेकर पंडाल जाती है। चोर उमा से कहते हैं कि उन्होंने ताज चुरा लिया है लेकिन वह उन्हें पूरा नहीं होने देती। उमा को खुशी होती है,कि अब मिथिला और मोदी के परिवार का अपमान होगा।

उमा–मिथिला को ताज देने के लिए कहती है। मिथिला का कहना है,कि गोपिका ने प्रतियोगिता मेला और स्क्वायर जीता। वह कहती है,कि गोपिका शिक्षित और निडर है और वह सक्षम के बराबर है। गोपिका उलझन में है,कि जब उसने सच कहा तो मिथिला यह सब क्यों कह रही है। मिथिला सक्षम और चिराग को ताज दिलाने के लिए कहती है। गोपिका सोचती है,कि यह भ्रम क्यों है और उसे इसे दूर करना चाहिए।

बा–गोपिका को एक तरफ ले जाते हैं। गोपिका का कहना है,कि उसने एक पत्र में पूरी सच्चाई बताई। बा कहते हैं कि उन्हें पत्र कभी नहीं मिला। गोपिका यह जानकर चौंक जाती है,कि पूरा परिवार सोचता है,कि वह शिक्षित और निडर है। वह कहती हैं कि उन्हें वह सब प्यार और सम्मान एक गलतफहमी की वजह से मिला है। आज का एपिसोड यहीं समाप्त हो जाता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

अखिलेश जैन on अहं! रंगमंचास्मि।