पीएम किसान : प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत भारत के प्रत्येक किसानों को 2 हजार रुपए की सम्मान निधि भारत सरकार के द्वारा प्रदान की जाती है। भारत सरकार ने अब पीएम किसान के लाभार्थियों के लिए आधार ई केवाईसी अनिवार्य किया था। जिसके बाद लाभार्थी किसानों को पीएम किसान पोर्टल पर ई केवाईसी कराना था।

सरकार ने यह प्रक्रिया पूर्ण कराने के लिए 31 मार्च तक समय दिया था,किंतु सभी किसान ई केवाईसी की प्रक्रिया को समय पर पूरा नहीं कर पाए। अब ऐसे में सवाल यह उठता है,की जो लाभार्थी किसान इस प्रक्रिया पूरा नहीं कर पाए है,क्या उनको अप्रैल महीने में मिलने वाली किश्त नही मिलेगी?

इसका जवाब है, यह है,की जो किसान प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत 2 हजार रुपए पा रहे है और अभी तक ई केवाईसी पूरा नहीं कर पाए है तब भी उन्हें अप्रैल महीने में जारी होने वाली पीएम किसान की 11वीं किश्त उनके खाते में मिलेगी तथा भारत सरकार ने उन्हें ई केवाईसी प्रक्रिया को पूरा करने के लिए 22 मैं तक का समय दिया है।

ऐसे में सभी किसान 22 मई तक अपने आधार के जरिए पीएम किसान पोर्टल पर ई केवाईसी को पूर्ण करें।

पीएम किसान : कैसे होगी ई केवाईसी?

पीएम किसान के लाभार्थी ई केवाईसी अपने आधार के जरिए पीएम किसान पोर्टल पर दो प्रकार से कर सकते है। जिसमे पहला आधार नम्बर से लिंक मोबाइल नंबर पर ओटीपी भेजकर पीएम किसान सत्यापन कर सकते है अथवा जिनका आधार नंबर उनके मोबाइल नंबर से लिंक नही है,तो आप अपने नजदीकी सीएससी केंद्र पर जाकर बायोमेंटरिक सिस्टम से भी पीएम किसान ई केवाईसी को पूरा कर सकते है।

अभी ओटीपी द्वारा ई केवाईसी की प्रक्रिया पीएम किसान पोर्टल पर अभी कुछ कारणों से बंद है,जल्द ही फिर से यह प्रक्रिया वेबसाइट पर फिर से चालू हो जायेगी।

पीएम किसान : कब आयेगी 11वीं किश्त

पीएम किसान लाभार्थियों को सम्मान निधि के अगले किश्त का इंतजार है। ऐसे में सभी इस बात को लेकर उत्सुक है,की आखिर पीएम किसान की अगली किश्त उनके खाते में कब तक आएगी। आपको बता दें की पीएम किसान की अगली किश्त 1 अप्रैल 2022 से लेकर 15 अप्रैल 2022 के बीच में कभी भी जारी की जा सकती है। यह किश्त ई केवाईसी पूर्ण कराने वाले किसानों समेत सबके खाते में प्रदान की जायेगी। 

भारत प्रहरी

भारत प्रहरी एक पत्रिका है,जिसपर समाचार,खेल,मनोरंजन,शिक्षा एवम रोजगार,अध्यात्म,...

Leave a comment

Your email address will not be published.