प्रतिज्ञा 2
Pratigya 2, Update

प्रतिज्ञा 2 : एपिसोड 42 की शुरुआत में, मीरा ,कृष्णा से बात करने के लिए उसके पास जाती है। वह कहती है, कि आप यहां क्या कर रहे हो? क्या आप प्रतिज्ञा जी को याद कर रहे हैं। वह कहती है कि आप उससे बहुत प्यार करते हैं लेकिन वह आपसे बात करने के लिए एक बार भी यहां नहीं आई। कृष्णा कहता है कि वह मुझसे बहुत प्यार करती है और मुझे पता है कि वह मुझसे नाराज है क्योंकि मैंने कुछ किया होगा। मीरा कहती है कि मुझे एक बात बताओ कि तुमने प्रतिज्ञा में क्या देखा है कि तुम उससे बहुत प्यार करते हो। कृष्णा के पास बहुत सारी अच्छी चीजें हैं।

वह कहते हैं कि मैं ऐसा आदमी हुआ करता था जो बहुत खतरनाक था लेकिन उसने मुझे एक पूर्ण अच्छे व्यक्ति में बदल दिया। वह मेरे बारे में, मेरे भोजन, नींद और सभी चीजों का ध्यान रखती है। मीरा कहती है कि मेरे पास आपके लिए एक योजना है और कहती है कि मुझे लगता है कि आपको कुछ नहीं खाना चाहिए और फिर वह आपके पास आएगी क्योंकि वह आपको भूखा नहीं देख सकती। और जब वह आएगी तब आप उससे बात कर सकते हैं। कृष्णा मीरा को थैंक्स कहता है लेकिन वह कहती है कि जब आप प्रतिज्ञा को पूरी तरह से मना लेगे तो मुझे थैंक्यू कहना।

प्रतिज्ञा गर्व से कहती है कि तुम कल पिकनिक पर जा सकते हो लेकिन गर्व ने जाने से मना कर दिया। प्रतिज्ञा ने उससे पूछा कि फिर वह क्यों कहता है कि यदि आप मेरी सभी बातों पर सहमत हैं तो मैं आपसे एक बात स्वीकार कर सकता हूं। मीरा आती है और प्रतिज्ञा को बताती है कि उसने कृष्णा को बुलाकर खाना खिलाने की कोशिश की थी लेकिन वह अपने कमरे से बाहर आने को तैयार नहीं हैं। तब कोमल ने प्रतिज्ञा से पूछा कि तुम जाओ और कृष्णा के लिए भोजन ले जाओ लेकिन प्रतिज्ञा मना कर देती है। वह कहती है कि उसे एक दिन भूखा रहने दो। लेकिन वह उसके लिए एक थाली बनाती है और उसे मीरा को देती है। और उसे कृष्णा को देने के लिए कहती हैं।

मीरा उससे कहती है कि वह तुम्हारे अलावा किसी की नहीं सुनेगा। प्रतिज्ञा कहती है कि यह बेहतर होगा कि आप उसे यह प्लेट देगे। कृष्णा प्रतिज्ञा की प्रतीक्षा कर रहे हैं। लेकिन मीरा आती है और कहती है कि प्रतिज्ञा ने मुझे तुम्हें यह देने के लिए भेजा है। और उसने यह भी कहा कि आप इस प्लेट से खा सकते हैं और अगर आप खाना नहीं चाहते हैं तो आप भूखे सो सकते हैं। कृष्णा यह नहीं मानते कि प्रतिज्ञा कुछ ऐसा कह सकती थी। इसलिए वह भोजन कक्ष के लिए अपने कमरे से बाहर चला जाता है। वहाँ वह देखता है कि प्रतिज्ञा, आदर्श को खाना खिला रही है और वह उसकी पीठ को रगड़ रही है।

यह देखकर कृष्णा चौंक जाते हैं। कोमल यह सब देखकर अपना आपा खो देती है। वह प्रतिज्ञा से कहती है कि तुम्हारा पति तुम्हारे सामने है लेकिन तुम किसी दूसरे आदमी को खिला रही हो और उसकी पीठ भी रगड़ रही हो। प्रतिज्ञा ने कोमल से कहा कि तुम्हें इससे क्या लेना-देना है। शक्ति ने आदर्श को ताना मारा कब से तुम प्रतिज्ञा पर अपनी नजरें गड़ाए हुए हो। कृष्णा शक्ति पर क्रोधित हो जाता है। वह यह कहता है और उसे बताता है कि मैं अपनी पत्नी के लिए कुछ भी बुरा नहीं सुन सकता। जब सुमित्रा ने प्रतिज्ञा को इसके लिए डांटा, तो वह उसके साथ दुर्व्यवहार करती है। तब कृष्णा प्रतिज्ञा कहते हुए चिल्लाते हैं और कहते हैं कि यदि तुम मेरे साथ ऐसा करना चाहती हो तो करो। पर तुम अम्मा के साथ या इस घर में किसी अन्य के साथ दुर्व्यवहार नहीं कर सकती।

भारत प्रहरी

भारत प्रहरी एक पत्रिका है,जिसपर समाचार,खेल,मनोरंजन,शिक्षा एवम रोजगार,अध्यात्म,...

Leave a comment

Your email address will not be published.