प्रतिज्ञा 2

प्रतिज्ञा 2: एपिसोड 44 की शुुरुआत होती है,कृष्णाा एपिसोड की शुरुआत में आदर्श को भेज देता हैै। दूसरी शक्ति मीरा के साथ दुर्व्यवहार करता है लेकिन सुमित्रा उसे बचा लेती है। वह कहती है कि वह वह लड़की है जिसे मैंने कृष्णा के लिए चुना है और उसे सब कुछ बताती हैं। मीरा कृष्णा से कहती है कि क्योंकि आदर्श यहाँ से चला गया है अब तुम्हारे और प्रतिज्ञा के बीच सब कुछ ठीक हो जाएगा। फिर वह उसे बताती है कि आज आखातीज है और आज शिव जी और पार्वती जी की शादी हुई थी। हर लड़की शिव जी जैसा पति चाहती है लेकिन आप भी उससे कम नहीं हैं।

यदि इस दिन दो लोग एक दूसरे को माला पहनाते हैं तो वे सातवें जन्म तक एक दूसरे के साथ रहते हैं। वह प्रतिज्ञा को देने के लिए सुमित्रा को माला की थाली देती है। सुमित्रा जाती है और प्रतिज्ञा को बताती है कि आपको कृष्णा की खुशी के लिए एक आखिरी काम करना होगा। मीरा कृष्णा से समय पर तैयार होने के लिए कहती है क्योंकि वह देखती है कि जब सुमित्रा प्रतिज्ञा को माला की थाली देती है तो वह उसे बिना किसी नाटक के स्वीकार कर लेती है। हर कोई तैयार हो जाता है और प्रतिज्ञा और कृष्णा की तैयारी करते है।

गर्व उन्हें देखकर बहुत उत्साहित हैं। कृष्णा ढोल के साथ आता है और हर कोई नाच रहा है। कोमल का कहना है कि अगर मैं और आदर्श भी आज माला का आदान-प्रदान करते तो अच्छा होता। सुमित्रा कहती है कि आप आदर्श के बारे में क्यों सोच रही हैं। अभी भी आपको यह नहीं दिखता कि वह आपसे प्यार नहीं करता। कोमल का कहना है कि मुझे पता है कि वह मुझसे प्यार नहीं करता है, लेकिन फिर भी मैं उससे जबरदस्ती शादी कर सकती हूं, फिर मेरे पास रहने के अलावा कोई चारा नहीं होगा। सुमित्रा कहती है कि चलो हम इसके बारे में सोचेंगे लेकिन अभी कृष्णा की खुशी पर ध्यान दें। जब कृष्णा प्रतिज्ञा को देखता हैं, तो वह आदर्श के साथ आ रही हैं और पहले से ही वे आपस में माला का आदान-प्रदान कर चुके हैं।

कृष्णा क्रोधित हो जाते हैं और आदर्श से कहते हैं कि मैंने तुम्हें अपना भाई माना है फिर तुम ऐसा कैसे कर सकते हो। उसने उसकी पिटाई शुरू कर दी और कहा कि तुम मेरी पत्नी को छूने की हिम्मत कैसे कर सकते हो। प्रतिज्ञा उसे रोकती है और कहती है कि तुम पागल हो गए हो। कृष्णा कहते हैं कि तुम आज पागल हो गई हो, बहुत ही खास दिन है क्या तुम इस दिन के महत्व को जानती हो। प्रतिज्ञा कहती हैं, मैं इस बारे में अच्छी तरह से जानती हूं। आज वे लोग माला का आदान-प्रदान करते हैं जो एक दूसरे से प्यार करते हैं। और आदर्ष वह है जिसके साथ मैं अपना शेष जीवन बिताना चाहती हूं, मैं सात जन्म तक उसके साथ रहना चाहती हूँ। यह सुनकर कृष्णा और बाकी सभी चौंक गए।

भारत प्रहरी

भारत प्रहरी एक पत्रिका है,जिसपर समाचार,खेल,मनोरंजन,शिक्षा एवम रोजगार,अध्यात्म,...

Leave a comment

Your email address will not be published.