32.1 C
Delhi
Saturday, July 31, 2021
ADVERTISEMENT

प्रतिज्ञा 2: 2 अप्रैल के एपिसोड की पूरी कहानी हिंदी में लिखित अपडेट || Pratigya 2,2 April Episode Written Update In Hindi

प्रतिज्ञा 2 के 2 अप्रैल के एपिसोड की पूरी कहानी जाने,जाने समर ने शक्ति को बलवंत त्यागी के बेटे के मौत के बारे में क्या कहा? कृति के गुस्से को प्रतिज्ञा ने कैसे कंट्रोल किया? कृष्णा ने नशे में प्रतिज्ञा को की बताया? धरा ने सज्जन सिंह के परिवार के बारे में बलवंत त्यागी को क्या बताया?

प्रतिज्ञा 2 : 2 अप्रैल के एपिसोड की पूरी कहानी हिंदी में जाने || Pratigya 2,2 April Episode Written Update In Hindi

एपिसोड की शुरुआत के पहले दृश्य में कृति सज्जन सिंह के पास बंदूक देखने के कारण अभी भी गुस्से में होती है,जिसे प्रतिज्ञा मनाती है,लेकिन वह नही मानती है और अपने – आप को फिर कमरे में बंद कर लेती है।

तभी दरवाजे पर कृष्णा पूरे नशे में आता है,प्रतिज्ञा उसको संभालने के लिए जाती है,धीरे – धीरे घर के सभी लोग वहां इकट्ठा होने लगते है,सज्जन सिंह और ठकुराइन कृष्णा को शराब पीने के लिए डांटते है,तभी कृष्णा सब खत्म हो गया कहने लगता है। सज्जन सिंह के पूछने पर कोमल उसका बचाव करने लगती है,और कहती है,की इसने पूरी बोतल गटक गया है,वही बता रहा है। कृष्णा रह रहकर गर्व के बारे में बोलता है,कोमल को लगता है,की कहीं वह गर्व का पूरा सच बता ना दे,वह स्थिति सभलाने में लग जाती है,और कृष्णा को ले जाने में प्रतिज्ञा को मादा करने लग जाती है,लेकिन प्रतिज्ञा उसे गर्व और कृति के पास जाने को बोलती है। प्रतिज्ञा किसी तरह से कृष्णा को कमरे में ले जाती है। उसके बाद सज्जन सिंह कहने लगते है, की कुछ तो बात है,जो बबवा 9 साल बाद घर में दारू पीकर आया है।

कृष्णा को प्रतिज्ञा बेड पर ले जाती है,कृष्णा प्रतिज्ञा से कहता है,की राधे के मौत के पीछे हम जिम्मेदार है, यार प्रतिज्ञा कृष्णा को कहती है,की नहीं तुम उसकी मौत के जिम्मेदार नही हो। मैं मानती हूं,की राधे तुम्हारा साथी था,लेकिन तुमने अपना रास्ता बदल लिया और वह आज भी उसी रास्ते पर खड़ा था। फिर कृष्णा कहता है,की मैं जानता हूं,राधे को मौत कैसे हुई? प्रतिज्ञा कहती है,यदि तुम जानते हो,तो मुझे बताओ,तभी वहां कोमल आती है,और प्रतिज्ञा को कृति और गर्व के पास भेज देती है।  

कोमल उसके बाद कृष्णा को संभालने लगती है,और उसे डांटने लगते है,की क्या बड़बड़ाए जा रहे हो। अभी सब कुछ बंटाधार हो जाता,जिस बात को छुपाने के लिए इतना सब कुछ हो गया। सब बेकार हो जाता।

दूसरी ओर शक्ति समर से पूछ रहा होता है,की बलवंत त्यागी के बेटे को किसने मारा?  जिस पर समर शक्ति से शर्त रखता है,को कल यदि आपने प्रतिज्ञा चाची को हमारे स्कूल जाने से रोक लेंगे तो फिर मैं बताऊंगा,इस पर शक्ति सिंह उस पर और गुस्सा होने लगता है,और कहने लगता है,की हम शर्त तो कभी अपने बाप की भी नही माने तो फिर भी मेरे बेटे हो,लेकिन इस पर समर बिल्कुल भी नही डरता है,और बाहर जाने लगता है। शक्ति सिंह उसे रोकता है,और फिर पूछता है, तब समर उसे बताता है,की बलवंत त्यागी के बेटे को हत्या हमारे ही घर के व्यक्ति ने की है,इसपर शक्ति पूछ पड़ता है,की कौन है वह? लेकिन समर उसे कहता है,की यह ट्रेलर है,यदि आपने प्रतिज्ञा चाची को रोक लिया तो फिर मैं पूरी बात बताऊंगा और फिर चला जाता है।

प्रतिज्ञा 2

अगले दृश्य में प्रतिज्ञा कृति और गर्व को समझा रही होती है,लेकिन कृति एकदम गुस्सा होती है,फिर वह संकेतात्मक रूप में कृति से कहती है, की यदि कोई उलझन होती है,तो आपस में समझकर सुलझा लेना चाहिए। कृति जवाब देती है,की आप सब झूठ बोलते है,दादू गुंडे है,लेकिन प्रतिज्ञा कहती है,तुम्हारे दादू गुंडे नही उन्होंने शक्ति ताऊ को बचाने के लिए बंदूक उठा लिया था,और उन्हें अंदाजा है अपनी गलती का और वह तुम्हारे ही बारे में सोच रहे थे,की तुमने कुछ भी ठीक से खाया पिया नहीं है। उसके बाद यह भी कहती है, की यदि शक्ति ताऊ ने गलती किया है,तो खुद तुम्हारे दादा जी ही उन्हे पुलिस के हवाले कर देंगे। इस पर गर्व कहता है,की लेकिन शक्ति ताऊ ने तो कुछ गलत नहीं किया। प्रतिज्ञा पूछ पड़ती है,यह सब तुमको कैसे पता है? गर्व फिर चुप हो जाता है और प्रतिज्ञा उसे कहती है,की यदि उन्होंने कुछ किया ही नहीं तो उन्हें कुछ नही होगा। फिर कृति को कहती है,तुम्हारे दादा गुंडे नही है,उनका नाम ही सज्जन सिंह है,यानी जेंटल तो वह फिर कैसे गुंडे होंगे? कृति फिर गुस्सा छोड़कर सज्जन सिंह से माफी मांगने की बात कहती है। प्रतिज्ञा उन्हे लोरी सुनाकर सुलाने को कहती है,जिसपर गर्व और कृति दोनो उसे बहुत बुरा गाने वाली बताते है। 

अगले दृश्य में धरा की बीवी उसे खाना देती है,जिसपर वह उसे उठा कर फेंक देता है,और कहता है,की उधर भाई साहब पर उस आदमी ने बंदूक उठा लिया और तुम मुझे खाना खाने को कह रही हो,फिर उसकी बीवी खाना उठाते हुए कहती है, की खाना नही था,तो बता देते फेंकने की क्या जरूरत थी,इस धरा गुस्से में उसे मारने जाता है,लेकिन वह कहती है, की मुझे मारिए मत मैं पेट से हुं,अगर कुछ बच्चे को हो गया तो फिर क्या होगा? धरा रुक जाता है,को मुझे तो मेरा बच्चा चाहिए बस,नही तो मैं तुम्हे मार दूंगा।

अगले दृश्य में बलवंत त्यागी अपने आदमियों के गोली चलाने का आदेश देता है,और सामने खड़ा हो जाता है। बलवंत पर गोली चलाने से सभी डरते है,लेकिन कांपते हुए गोली चलाना आरंभ करते है,और बलवंत नारियल फेंकना तभी धरा आकर उन्हें रोकता है,और वहां से उन आदमियों को हटा देता है। फिर बलवंत को चंदर की याद दिलाकर धरा कहता है,की मुझे सज्जन सिंह के परिवार के बारे में जरूरी जानकारी मिली है। 

धरा बलवंत त्यागी को लेकर एक कमरे में आता है,और वहां पर सज्जन सिंह ,ठकुराइन,शक्ति सिंह,केसर,समर और गिरीश,कृति और गर्व तथा कृष्णा सिंह का फोटो दिखाकर सबके बारे में जानकारी देता है,कृष्णा सज्जन सिंह का दूसरा बेटा है,सुनकर वह चौंक जाता है,और कहने लगता है,की कभी भी दोनो पति – पत्नी साथ नही दिखे,इस परिवार का कोई न कोई आदमी हमारी मदद करना चाह रहा है,प्रतिज्ञा केस में मदद कर रही है,कृष्णा किसी और तरह से कोई न कोई कनेक्शन इस परिवार का हमारे बेटे चंदर के हत्या में शामिल है। एपिसोड यहीं समाप्त हो जाता है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

9,997FansLike
45,000SubscribersSubscribe

Latest Articles