मैडम सर: 213वें एपिसोड की कहानी की शुरुआत होती है,सभी उस जगह होते है,जहां उन्होंने मैडम सर को रेस्क्यू किया था। दूसरी ओर चीता और पुष्पा चिंतित है,की पुलिस कमिश्नर महिला थाने पर ना आ जाए। इधर बिल्लू को एक झाड़ी के पास खून के कुछ छीटें दिखाई देते है। सब समझने लगते है,की डी एस पी अनुभव सिंह को शायद नशे में हसीना मलिक ने ही मार दिया। 

संतोष चीता को बताती है,की वहां पर खून के कुछ छीटें मिले और डीएसपी अनुभव सिंह के ही हो सकते है। इस पर पुष्पा और चीता और चिंतित हो जाते है। 

थोड़ी देर बाद अनुभव सिंह स्वयं करिश्मा सिंह को पुकारते हुए आ जाते है। वहीं थाने में चीता और पुष्पा सिंह परेशान है की कमिश्नर सर के फोन का क्या उत्तर दे। पुष्पा फोन उठाती है,और जैसे ही कहती है की अनुभव सर चले गए। तभी चीता को खबर आती है की अनुभव सर मिल गए है और जिंदा है।

वहीं दूसरी ओर सभी अनुभव से पूछ पड़ते है,आखिर वह कहां थे?फिर अनुभव बताते है,की मैंने अपना प्रेम प्रस्ताव हसीना जी के सामने रखा पहले तो वह नही मानी लेकिन फिर मैंने उन्हें विश्वास दिलाया कि मैं वास्तव में इनसे प्रेम करता हूं। तब इन्होंने मुझे हां कर दिया। फिर मैं इन्हें अंगूठी पहनाने ही वाला था की कयामत आ गई और अंगूठी छीन कर ले गई।हसीना जी ने मेरे पॉकेट से गन निकाली और कयामत पर चला दिया। वह कयामत की और दौड़ने के लिए जा रही थी और मैंने उन्हें रोक लिया। फिर इन्होंने वही अंगूठी लाने के लिए मुझसे कहा और जब तक मैं अंगूठी न लाऊं तब तक यहीं ठहरने के लिए बोला था। मुझे विश्वास नहीं था की यह यहां रहेंगी। यह यहां पर उपस्थित तो है,लेकिन इन्होंने यूनिफॉर्म पहना हुआ है। करिश्मा सिंह सोचने लगती है,की फिर यह पेड़ पर कैसे चढ़ी? और पूछने लगती है,इसका जवाब देते हुए संतोष शर्मा कहती है, की हो ना हो यह कुत्ते के वजह से ही पेड़ पर चढ़ी है।

वहीं हसीना मलिक यह मानने को तैयार ही नहीं है,की उन्होंने अनुभव सिंह के प्रेम प्रस्ताव को स्वीकार किया है। अनुभव कहते है,की उन बातों को भूल जाइए और अब अपना निर्णय सुनाइए की क्या आप मुझसे विवाह करेंगी? जिसपर हसीना एकदम से मना कर देती है और अनुभव वहां से चले जाते है। हसीना के कहने पर सभी वहां से चले जाते है।

अगले दृश्य में कयामत जिसको गोली लगी है,वह अपने हाथो पर पट्टी बांधे हुए है और वह हसीना मालिक से बदला लेने को कह रही है। वह एक दृश्य को सोचती है जिसमे साफ दिखाया गया है, की उस कयामत का नाम भी हसीना है और वह भी पुलिस की वर्दी पहने हुए है। वह हसीना से किसी बात का बदला लेना चाहती है। एपिसोड यहीं समाप्त हो जाता है।

भारत प्रहरी

भारत प्रहरी एक पत्रिका है,जिसपर समाचार,खेल,मनोरंजन,शिक्षा एवम रोजगार,अध्यात्म,...

Leave a comment

Your email address will not be published.