Homeटीवी सीरियलयह रिश्ता क्या कहलाता है,15 सितंबर 2021 के एपिसोड का लिखित अपडेट...

यह रिश्ता क्या कहलाता है,15 सितंबर 2021 के एपिसोड का लिखित अपडेट हिंदी में

यह रिश्ता क्या कहलाता है,15 सितंबर 2021 के एपिसोड की शुरुआत होती है, कार्तिक कहता है,कि सीरत ने इसे रंगोली ट्यूटोरियल देखकर बनाया है, ठीक है। सीरत हाँ कहते हैं। दादी सीरत से रोज रंगोली बनाने को कहती हैं। कार्तिक का कहना है,कि वह इसे दिन में दो बार बनाएगी। सीरत कहते हैं कि मैं कोशिश करूंगा। वह कहता है वादा करो कि तुम कोशिश करोगे। सीरत का कहना है,कि मैं तैयार होकर आऊंगा। जाती है। दादी कहती हैं सुरेखा, पूजा की थाली तैयार करो। सुरेखा कहती है नहीं, मेरे नाखून टूट जाएंगे। दादी कहती हैं तो नाखून काट दो, तुम कोई काम मत करो, बस थाली सजाओ। कार्तिक कहता है मैं आऊंगा। दादी पूछती हैं कि आपने अच्छी रंगोली बनाना कब सीखा, मैं आंखों में भावनाओं को पढ़ना जानता हूं। वह कहता है,कि मैं तैयार होकर आऊंगा। वह दौड़ता है। वह हंसती है और उनके लिए प्रार्थना करती है। सुवर्णा और मनीष तैयार हो जाते हैं। वह कहती हैं कि गणपति घर में खुशियां बरसाएंगे, हमें खुश रहने की कोशिश करनी चाहिए। मनीष कहते हैं कि इसकी उम्मीद मत करो

मुझे, मुझे ऐसा करने की कोई इच्छा नहीं है। वह कहती हैं कि जब कार्तिक की जिंदगी में नायरा आई तो आप उसे पसंद नहीं करते थे, जब गलतफहमी दूर हो गई तो उसने आपके दिल में जगह बना ली। वह कहता है,कि वह नायरा थी, यह सीरत है, बहुत अंतर है। वह कहती है,कि सीरत भी अपने लिए जगह बनाएगी। उनका कहना है,कि मुझे उन लोगों की चिंता है जो उससे उम्मीद रखते हैं, अगर उनकी उम्मीदें टूट गईं तो क्या होगा।

कार्तिक और सीरत को गणपति मिलते हैं। मनीष और सुवर्णा आरती करते हैं। तू ही गणेश पर सब नाचते हैं…. कैरव के शिक्षक ने फोन किया। सीरत जवाब देता है। वह कैरव के पास जाती है। वह पूछती है,कि क्या यह वास्तव में स्कूल में आधा दिन था। कैरव हाँ कहता है। कार्तिक पूछता है,कि क्या हुआ। वह कहती है,कि कैरव के शिक्षक ने फोन किया था, वह परेशान थी कि दोपहर के भोजन के बाद बच्चे गायब हो गए, आधे दिन या बिजली लाइन की समस्या नहीं थी, दोनों ने कक्षाओं को बंक कर दिया। कार्तिक पूछता है,कि क्या तुम दोनों ने हमसे झूठ बोला था। कैरव और वंश सॉरी कहते हैं। सीरत कहते हैं, मुझे लगा कि तुम दोनों समझ गए और स्कूल चले गए। कैरव कहता है सॉरी, हमसे गलती हो गई। सीरत कहते हैं कि मैंने आपसे कई बार पूछा, आपने आसानी से झूठ बोला, आपने गलत नहीं सोचा, हर कोई आप दोनों पर भरोसा करता है। कार्तिक कहते हैं कि हमें आपकी इस बात पर विश्वास नहीं हुआ, कैरव आप हमें अपना सबसे अच्छा दोस्त कहते हैं, क्या आप हमसे झूठ बोलेंगे। कैरव सॉरी कहता है। सीरत का कहना है,कि मैं बात नहीं करना चाहता। कैरव का कहना है,कि मैं वादा करता हूं कि ऐसा दोबारा नहीं होगा। वह उसे गले लगाता है। हर कोई सीरत से बच्चों को माफ करने को कहता है। सीरत कहते हैं सॉरी, मैं उनसे बात नहीं करना चाहता, उन्होंने पूजा के दिन कई बार झूठ बोला। मनीष कहते हैं कि बच्चे वही सीखते हैं जो वे अपने आसपास देखते हैं। सीरत का कहना है,कि मैं नहीं सुनूंगा। कैरव सॉरी कहता है। कार्तिक कहता है,कि अब तुम किसी भी चीज़ में शामिल नहीं होओगे, अपने कमरे में जाओ। वह बच्चों को ले जाता है।

यह रिश्ता क्या कहलाता है

सुवर्णा ने सीरत से उन्हें माफ करने के लिए कहा। सीरत का कहना है,कि हमें उन्हें उनकी गलती समझानी होगी, क्षमा करें। सुरेखा कहती है,कि वह नहीं जानती कि बच्चों की परवरिश कैसे की जाती है, गुस्सा उन्हें माता-पिता से दूर कर देता है, उसे परवाह नहीं है, कैरव उसका असली बच्चा नहीं है। वह तर्क करती है। सुवर्णा उसे इसे रोकने के लिए कहती है। सुरेखा कहती है,कि हर कोई आपके जैसा नहीं है, हम अपने बच्चों के दर्द को समझते हैं, उसने बच्चों को एक छोटी सी बात के लिए रुलाया, उसने उन्हें डांटा और विदा किया। सीरत का कहना है,कि आपने सही कहा, मैं उसकी सौतेली माँ हूँ, लेकिन मुझे पता है,कि उसके लिए क्या सही है और क्या गलत है, एक माँ हर दिन यह समझती है, मैं भी उनसे कुछ नया सीख रहा हूँ, मैं एक माँ का महत्व अच्छी तरह से जानता हूँ, असली माँ भी एक बच्चे को डांटती है मौदी मुझसे प्यार करती थी और गलत की सजा भी देती थी, क्या वो मुझसे कम प्यार करती थी, मुझे सही और गलत का फर्क पता है, मैं बच्चों को यही सिखाना चाहता हूं, मैं कैरव से ज्यादा आहत हूं,

सुवर्णा सुरेखा से इस बात को अपने दिमाग से निकालने के लिए कहती है। दादी कहती हैं हाँ, तुम्हें यह फिर कभी नहीं कहना चाहिए। गायू का कहना है,कि सीरत ने सिखाया मां का असली मतलब, मां प्यार में अंधी नहीं होती, उसे सख्त होना चाहिए। अखिलेश कहते हैं कि मुझे आप पर शर्म आती है सुरेखा। सुरेखा कहती है,कि मैंने सोचा था कि यह शादी के बाद उसका पहला उत्सव था, यह एक छोटी सी बात थी, उसने इसे एक बड़ा मुद्दा बना दिया, बच्चे पूजा के लिए घर आए, मुझे नहीं लगता कि यह गलत है, अगर बच्चे घर में परेशान हैं, तो भगवान करता है ‘ टी खुश हो जाओ। कैरव का कहना है,कि सीरत मुझसे बात नहीं करेगा, यह हमारी गलती है। वंश पूछता है,कि हम सॉरी कैसे कहेंगे, मेरे साथ आओ। सीरत को हर जगह सॉरी नोट मिलते हैं। कैरव कान पकड़ता है और क्षमा मांगता है। वह अपने कमरे में जाती है और गुस्सा हो जाती है। कार्तिक कहता है,कि आप खुद को सजा दे रहे हैं, उसे नहीं। वह कहती है,कि यह मेरी गलती है, मैं उसका विश्वास नहीं जीत सका। वह कहता है,कि मैं भी यही कह सकता हूं। वह कहती है,कि तुम उसके पिता हो, अगर तुम उसे डांटते हो, वे तुम्हारा प्यार देखेंगे, मेरी चिंता एक सौतेली माँ के नाटक के रूप में दिखाई देती है। वह रोती है।

अगले एपिसोड में : कैरव सॉरी कहता है, आई एम रियली सॉरी, क्या वह परेशान होकर चली जाएगी। सीरत मुक्केबाजी का अभ्यास करती हैं। वह बेहोश हो जाती है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

अखिलेश जैन on अहं! रंगमंचास्मि।