श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2021 : हमारे पौराणिक कथाओं के अनुसार भाद्रपद मास के अष्टमी तिथि को ब्रह्मांड के संचालक भगवान विष्णु के आठवें अवतार भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव के रूप में मनाते है। इसी दिन भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था। ऐसे में श्रद्धालु भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव को बड़ी ही श्रद्धा के साथ मनाते हैं। इस वर्ष यह तिथि दिनांक 30 अगस्त 2021,दिन सोमवार को पड़ी है। बहुत से श्रद्धालु जन्माष्टमी का व्रत भी रखते है। जमाष्टमी का व्रत उदयातिथि को रखा जाता है। हम इस लेख के माध्यम से जाने के की भगवान श्रीकृष्ण जन्मोत्सव को कैसे मनाए? श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का शुभ मुहूर्त,पूजा विधि और भगवान श्रीकृष्ण का श्रृंगार कैसे करे इन सभी बातों के बारे में हम बताएंगे।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2021: क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त

भगवान श्रीकृष्ण के जमोत्सव के इस पावन पर्व को श्रद्धालु बड़ी श्रद्धा के साथ मनाते है। इस बार भाद्रपद मास की अष्टमी तिथि दिनांक 29 अगस्त 2021 को रात्रि 11 बजकर 25 मिनट से 30 अगस्त की रात 1 बजकर 59 मिनट तक रहेगी। इस बार भगवान श्रीकृष्ण की पूजा के लिए 45 मिनट का शुभ मुहूर्त बन रहा है। 30 अगस्त 2021 को रात 11 बजकर 59 मिनट से रात 12 बजकर 44 मिनट तक रहेगा। जैसा कि हमने पहले ही बता दिया है, कि भगवान श्री कृष्ण के जन्मोत्सव के इस पावन पर्व के दिन श्रद्धालु व्रत भी रखते है। जन्माष्टमी की उदया तिथि 30 अगस्त 2021 को है इसलिए 30 अगस्त को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का व्रत रखा जाएगा।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2021: श्रीकृष्ण की मूर्ति स्थापना कैसे करें ?

घर में भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति स्थापना के लिए सबसे शुभ दिन आज ही है,आप अपनी मनोकामना के अनुसार मूर्ति स्थापना कर सकते है,जैसे सुखी दाम्पत्य जीवन हेतु राधा – कृष्ण की मूर्ति,संतान के लिए बाल कृष्ण की मूर्ति,सभी मनोकामना पूर्ति हेतु मुरलीधर श्री कृष्ण की स्थापना करें। लेकिन यदि कोविड – 19 महामारी के चलते इस त्योहार को सीमित तौर पर मनाया जाएगा ।यदि आपको मूर्ति लाने में असहजता है तो घर पर जो पहले की मूर्ति है उसी का श्रृंगार कर के पूजन करें।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2021: श्रीकृष्ण का श्रृंगार किस प्रकार करना चाहिए।

आज श्री कृष्ण जन्मोत्सव के दिन सबके में में यह प्रश्न रहते है कि भगवान श्री कृष्ण का श्रृंगार कैसा रहना चाहिए किस वस्तु के प्रयोग से भगवान श्री कृष्ण प्रसन्न रहते है । श्री कृष्ण पीताम्बर अर्थात पीले वस्त्र अती प्रिय है अतः इन्हें पीताम्बर वस्त्र धारण करवाना चाहिए।इनके श्रृंगार में पुष्पों का प्रयोग अति फलदायक है। अतः पुष्पों का भी प्रयोग करना चाहिए। उनके श्रृंगार में गोपी चंदन का भी प्रयोग करना अनिवार्य है। काले रंग का प्रयोग भगवान श्री कृष्ण की पूजा में पूर्णतः वर्जित है।इस लिए भगवान श्री कृष्ण की पूजा में काले रंग का प्रयोग ना करें।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2021: श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव में किसका भोग लगाएं?

भगवान श्री कृष्ण जन्मोत्सव के दिन भगवान श्रीकृष्ण को कहीं –  कहीं धनिए की पंजीरी,पंचामृत,मेवा और माखन आदी का भोग लगाना अनिवार्य है। इन सबमें तुलसी दल डालना अनिवार्य है इस दिन भगवान श्री कृष्ण को कई व्यंजनों के साथ सात्विक भोजन करना भी अनिवार्य है।

भारत प्रहरी

भारत प्रहरी एक पत्रिका है,जिसपर समाचार,खेल,मनोरंजन,शिक्षा एवम रोजगार,अध्यात्म,...

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *