Homeशिक्षाहिन्दी दिवस 2021: आखिर क्यों मनाया जाता है? हिंदी दिवस

हिन्दी दिवस 2021: आखिर क्यों मनाया जाता है? हिंदी दिवस

हिंदी दिवस : प्रत्येक वर्ष की ही भांति इस वर्ष भी 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में पूरे देश भर में मनाया जाएगा। इस दिन हिन्दी के सम्मान के लिए शैक्षणिक संस्थानों और सरकारी एवम गैर सरकारी संस्थाओं में कई प्रकार के आयोजन किए जाते है। जैसा कि सबको पता है कि हिंदी हमारी राजभाषा है एवम हमारे देश में सबसे अधिक 77 प्रतिशत लोग हिंदी भाषा में बातचीत करते है। हिंदी को हमारे संविधान के धारा 17 के अनुच्छेद 343(1) में हिंदी को हमारे देश की राजभाषा का तथा देवनागरी को हमारी  लिपि के रूप में 14 सितंबर 1949 को दर्जा प्राप्त हुआ है। इसी उपलक्ष्य में ही 14 सितंबर 1953 को हिंदी दिवस के रूप मनाया गया तबसे यह सिलसिला बन गया और प्रत्येक वर्ष इसी दीन हिंदी दिवस मनाया जाने लगा।

किस प्रकार मनाया जाता है हिन्दी दिवस

हिंदी दिवस के दिन सभी प्रकार के शैक्षणिक संस्थानों में हिंदी से संबंधित प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं,साथ ही इस दिन हिंदी से संबंधित कई जगहों पर साहित्य गोष्ठी और काव्य प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। हिंदी दिवस के दिन साहित्यकारों समेत समस्त हिंदी के जानकार इस दिन हिंदी के प्रसार को लेकर विचार मंथन करते है। इस दिन कई जगहों पर हिंदी वाद – विवाद ,निबंध लेखन,हिंदी टाइपिंग जैसे भी प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है। 

कहां – कहां बोली जाती है हिन्दी

आमतौर पर भारत में कई और भाषाएं बोली जाती है,किन्तु हिंदी बोलने वालो की संख्या अधिक है। ऐसे में जहां भारत में हिंदी सबसे अधिक बोली जाती है,तो यह भी प्रश्न आता है कि क्या हिंदी भारत के अतिरिक्त भी बोली जाती है? तो इसका उत्तर हां होगा। क्योंकि हिंदी भारत के अतिरिक्त मॉरिशस,फिजी,नेपाल,युगांडा,अमेरिका आदि देशों में भी हिंदी बोली जाती है।हिंदी वर्ल्ड लैंग्वेज डेटाबेस के 22 वे संस्करण में बताया गया कि हिंदी विश्व में तीसरी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है।हिंदी 176 विदेशी विश्वविद्यालयों में पढ़ाई जाती है।

हिंदी दिवस मनाने का उद्देश्य

हिंदी दिवस,हिंदी को विश्व की सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा बनाएं जाने को लक्ष्य को लेकर हिंदी भाषा से संबंधित कई संस्थाएं इसी उद्देश्य को लेकर इस दिन मंथन और विचार किया जाता है। हिंदी भारत के

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

अखिलेश जैन on अहं! रंगमंचास्मि।