पीएम किसान : 31 मई को प्रधानमंत्री जी ने 23000 करोड़ रुपए पीएम किसान सम्मान निधि के लिए जारी कर दिए। जिसके बाद से लाभार्थी किसानों के खाते में इस साल की दूसरी किश्त तथा कुल 11 वीं किश्त आना शुरू हो गई है।

आपको बता दे प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत भारत सरकार किसानों को 6 हजार रुपए की आर्थिक मदद पहुंचाती है। यह छः हजार रुपए तीन किश्तों में किसानों को उन्हें बैंक खाते में दिए जाते है। 

एक बार पंजीकरण कराने के बाद किसानों के खाते में समय पर किश्त आ रही थी लेकिन इस बार पीएम किसान पोर्टल ने ई केवाईसी अनिवार्य कर दिया था। जिसके बाद किसानों ने तेजी से सहज जन सेवा केंद्रों और कृषि इकाई पर जाकर या फिर स्वयं ओटीपी द्वारा ई केवाईसी पूरा कर लिया था।

ई केवाईसी पूरा करने के पश्चात किसान अगली किश्त का इंतजार कर रहे थे। अब उनके लिए गुड न्यूज है। क्योंकि सरकार द्वारा 11वीं किश्त रिलीज कर दिया गया है।

पीएम किसान : अपना स्टेटस कैसे चेक करे?

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के लाभार्थी किसान यह सोचकर परेशान रहते है, की अभी तक उनके खाता ने पैसा आया या फिर नहीं,आमतौर पर अब लगभग सबके मोबाइल फोन उनके बैंक अकाउंट से लिंक होते है लेकिन कभी – कभी बैंक में धनराशि क्रेडिट होने का एसएमएस प्राप्त नहीं होता है। ऐसे में किसानों के सामने एक समस्या खड़ी हो जाती है,की कैसे पता करे? हमारे खाते में बैलेंस आया की नहीं,आइए हम आपको इन आसान चरणों में सीखा देंगे की कैसे आप अपना स्टेटस चेक कर सकते है। 

  • सबसे पहले आपको पीएम किसान सम्मान निधि के अधिकारी पोर्टल पर जाना होगा।
  • इसके लिए आप गूगल पर पीएम किसान सर्च कर सकते है।
  • सर्च करने के बाद अमूमन पहली वेबसाइट ही आधिकारिक वेबसाइट होगी,लेकिन फिर भी आप एक बार देख ले,वह वेबसाइट pmkisan.nic.in हो।
  • इसके बाद आप पीएम किसान पोर्टल पर चले जायेंगे।
  • वहां पर नीचे स्क्रॉल करना है,जिसके बाद आपको फार्मर्स कॉर्नर मिलेगा।
  • फार्मर्स कॉर्नर पर आपको बेनिफिशियरी स्टेट्स पर क्लिक करना होगा।
  • आगे आपके आधार नंबर या फिर अकाउंट नबर डालने के लिए बोलेगा।
  • आप कोई भी एक डिटेल डालकर सबमिट पर क्लिक कर देना है।
  • इसके बाद आपको आपके हर एक इंस्टालमेंट का डिटेल वहां पर मिल जायेगा।

भारत प्रहरी

भारत प्रहरी एक पत्रिका है,जिसपर समाचार,खेल,मनोरंजन,शिक्षा एवम रोजगार,अध्यात्म,...

Leave a comment

Your email address will not be published.